EMBARRASSMENT….

Hola,my dear friends!! I have tried to sketch the feeling in love-Embarrassing….Are you feeling just like that.plz give me your precious opinions🌹

I am shying to show my this sketch but i have to know your valuable opinions because after a long time i draw it.

With love.❤

be well.stay safe.

By Aruna Sharma.12.06.2021;11.40ÀM

HAPPY WEEKEND🌺🌻🌼🌷🌹

IDENTIFICATION IS NOT NECESSARY IN THE LOVE’S WORLD,MY DEAR DEW!!🌹

(A diamond is best to give his identification)

I was searching you here and there,

But could not find your introduction,i went everywhere.

My longings are imprisoned in your closet like my love’s diamond.

And i know-only my soul could go there to get with blue mind.

Oh dear dew!! You are a most inspiring diamond for mine,

It will be my good luck if i go there where is your love’a shrine.

Now,i think what is in the name may be you are Dew or Tamara,

If i have the feeling the love for you,

I know- love never demands the identification of any beloved hearts,

And says to all illusions-SAYONARA.

Now i am feeling my guilty,plz give me offence,

If you not but indeed God will do to stand me as bowing near your fence.

Because of this i will be an eclipsed moon for you forever,

And my cursed soul will wander as thirsty in desert in searching of water.

Written by Aruna Sharma.09.06.2021.

10.41AM.

🌹🌹🌹🌴🌴🌴🌴🌹🌹🌹

ग़ैरत….

आज कल ग़ैरत को अपने व़ुजूद पे श़र्म आती है,

जैसे वो ठेले पे बिकने का ही फ़कत करम फरमाती है।

चवन्नी ,अठन्नी में हर कहीं एक किलो मिल जाती है,

जज़्बात की ऐसी तैसी,बिन तुले मिल जाती है।

अब तो अपने करीबी ही आस्तीन का साँप नजर आने लगे हैं,

कि मेरी जिन्दगी का आराम हराम कर जश़्न मनाने लगे हैं।

इक ज़माना था कि ग़ैरत के नाम पर त़ेग-ओ-खँजर चल जाते थे,

और आज ग़ैरत एक पागल अहसास है,जिसके जलवे सर्कस का बन जाते हैं।

अब तो दौलत ही इमान धर्म ,बहुतेरे आ जाते संभालने को जैसे ठेकेदार जन्म से बन जाते हैं।

आज चल तो रही बेगैरतों की पुर ज़ख्म पुरवाई है,

और गैरत की कर ऐसी तैसी,ये एक बुराई है,

वो देखो,इक बन्दा या अनेकों ,पर बड़े सभ्य और नेक,

जिनहोने श़रम खुले आम बेच खाई है।

ओह-देख के ये सारा मँजर,द़िल इस कदर दुखा कि

अश़्कों के समन्दर में यूं डूबा कि मैं हसीं तसुव्वरातों को भूल गई,

कि मेरे ख़्वाबीदा लफ़्ज सभी परकटी चिड़िया सी छटपटा गई।

या ख़ुदा!!मुझे इस खुदगर्ज म़हफिल से महरूम ही रख,

बस साथ मेरे मेरी पुरसुकून तन्हाई ही रख ।

यहां हर किसी को पार जाने को इक सहारा चाहिये ,

और सभी को मेरी कश़्ती में छेद करने का इशारा चाहिये।

मैं गुमनाम ही सही साहिल तक पहुंच जाऊँगी,

सफ़ीना गर भँवर में हो,तेरा नाम लेके निकाल लाऊँगी।

मुझे नहीं चाहिये ये महफ़िल जहाँ मेरा प्यार हर लम्हे ठोकर खाता है,

ऐ ख़ुदा!! तू ही बता वो सहारा सा रेतीला वीराना,

वहाँ कोई ना आ सके और रात की तन्हाई में मेरा प्यार चमके हीरे सा दीवाना।

Written by Aruna Sharma.05.06.2021;10.30PM

ये कौन सी तस्वीर-ए-मुकद्दर है?

मैं अपनी धुन में मगन नाच रही अपनी ज़िदगी के आँगन में,

ठंडी हवाओं में लहरा के आँचल ज्यों बादल लहराये नील गगन में।

छनाक,मेरी पायल टूटी कि मैय का प्याला टूटा,

कि चाँद में दरार पड़ी या कोई तारा टूटा।

ओह,फिर कोई याद आया और दिल टूटा,

पत्थर के सीने से कोई सोता फूटा ।

धीरज का घड़ा अश़्कों से भरा गिरा और फूटा,

सारा वुज़ूद भीग गया,रोने की बाबत श़ाना भी छूटा।

ऐ त़कदीर!! तू बड़ी कारसाज़ है,तेरा हर तीर मुझपे ही छूटा,

मेहरब़ान हो के जा अपने ख़ुदा के पास जिसने गल्ती से तुझे मेरे नाम लिखा।

ऐसी नाश़ाद मेरी तक़दीर का तस्स़वुर नहीं कि हर पल बौखला।

मेरा ख़ुदा हर पल साथ रहा लिख कर पैगाम़ मेरे मुस्तकबिल का।

मैं फिर क्यों तेरी परवाह करूं,जा अपने रस्ते जा।

यहाँ नहीं तेरी कोई जरूरत,देख खुद को सर से पा,

ये तस्वीर-ए-मुकद्दर नहीं है कोई काला जादूटोना।

तन्हा समझ के आई है ये जादूगरनी लेके अपना पिटारा,

मेरी जलती आँखों की इक चिंगारी काफी है करने को तुझे द़फा।

ख़ाक में तब़दील होना है तो हो ,ये तो है फ़कत प्यार का जहाँ।

कौन करता है फ़िकर तेरी अदाओं की,जब करती हूं जिक्र तेरा,

मेरी निगाहों की आब ही काफ़ी है करने को तुझे मेरी ज़िन्दगी से जुदा।

Written by Aruna Sharma.03.06.2021; 1:21 AM.

A Small Step…

My little Angel!! Your birth is for Himalya,

See there,that is calling you to enchantiya.

If you want to win the Mount Averest,

My dear Angel, you have to take a small step.

Firstly try to climb up on a small hill,

Step by step by step,big and bigger as you will.

One day will come else,the top will be under your feet,

And your stillness have wings with your smiley flight.

Never think and try to climb up on the peak by one big leap,oh my sweet heart!!

That could give you unbearable pain and you can be bitterly hurt.

When you was a kid and did not know how to walk on the feet,

Then you tried to walk by you soft knees and laughed after slip.

With passing the time ,you have grown up then fast walked and ran like a bud smiles after fully blooming.

My dear,this time you are ready to fully bloom and care yourself against the thunderbolt which has to come in every life as terrifying.

I have nourished you with love for booming,

Never want to see your dreams for vanishing.

But having proud of you and your strong will power for your ambitions,

So,my love!! I pray for your success to reach on peak of Himalayan’s ranges.

I can not say you never go ahead because life is the name of working some new creation as God says,

And you are ready for it with my blessings words which is coming out with you in your ways.

Begin your journey at once with blessed mind and go ahead,my blessed innocent love!! Go ahead

Slowly slowly at last you will reach on peak of Everest typo ambiguities target and find it beneath your feet ‘n opened sky on your head to say regard.

Like that girl,you are too my precious pearl.bless you,my little darling;because of you all are my life’s charming.🤗🤗🤗🤗❤❤❤❤🤗🤗🤗🤗

Written by Aruna Sharma.02.06.2021;11.22AM

Dedicated to Sona and Mona with blessed love❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤

The rain drops on windshield…

A car’s windows are happy in rainy season by having many raindrops,

No try to wipe those by lonely driver and standing in open as thirsty hopes.

He would never know those raindrops were my soul’s tears,

My poor soul chases him ,why?i don’t know because of unknown fears.

Written by Aruna Sharma.02.06.2021

12.24 at night.🌹

Dedicated to the lonely author🌹🌹🌹🌴🌴🌴🌹🌹🌹🌹