Those stars…

Happy makar snkrati(kite festival) is over.

So much noisey voice like melodious on roof,street seemed like a concerto that is over.

Now night comes and nobody out of home.

Silence calls me and says-here is not any guy to loot your kite.

I say my friend-come on and fly the kite .

He smiles and ready to go some with the thread to bite.

We both will fly many kites high,higher and highest in sky,

For gathering many stars which attract us with love by twinkling.

Oh so much stars,may be we pick up then we will keep under our room’s ceiling and those will shine as blinking,wow.

Those stars will sing the lullabeis when we are in about of take the sleep,those will smiling by winking.

Because of those will be naughty then.we both have to force a sleep taking .

Under our those will be us in blankets to remove the darkness.

All night they will enlighten our eyelids till dawn the nightmare to vanish.

What a wonderful imaginations.

Say my dear,it is really a positive impression.😊😊😄😄😄❤❤❤

Written by Aruna Sharma.15.01.2021

For Keeping Peace in My Dear America🙏🙏🙏🙏🙏



मन हरी दर्शन को आज हरी ओम, हरी ओम, हरी ओम, हरी ओम मन तरपत हरी दर्शन को आज मोरे तुम बिन बिगरे सगरे काज बिनती करत हूँ, रखियो लाज तुमरे द्वार का मैं हूँ जोगी हमरी ओर नज़र कब होगी सुनो मोरे ब्याकूल मन का बाज बिन गुरु ज्ञान कहाँ से पाऊँ दिजो दान हरी गुण गाऊँ सब गुणी जन पे तुमरा राज मुरली मनोहर आस ना तोडो दुख भंजन मोरा साथ ना छोड़ो मोहे दर्शन भिक्षा दे दो आज #BharatBhushan #VijayBhatt #RaagMalkauns Man Tarpat Hari Darshan Lyrics Hari om, hari om, hari om, hari om Man tarapat hari darshan ko aj More tum bin bigare sagare kaaj Binati karat hun, rakhiyo laaj Tumare dwaar ka main hun jogi Hamari or najr kab hogi Suno more byaakul man ka baaj Bin guru jnjaan kahaan se paaun Dijo daan hari gun gaaun Sab guni jan pe tumara raaj Murali manohar as na todo Dukh bhnjan mora saath na chhodo Mohe darshan bhiksha de do aj

Sent from India by Aruna Sharma;12.01.2021

ये या वो,इधर या उधर…..

चौराहे पे खड़ा दिल सोचता है-ज़ाना किधर है?

कौन अपना या पराया मकान -ए-शख़्स किधर है?

दिल में छिपी सदियों से इक आरज़ू की मंजिल किधर है?

एक फ़ितूर भी कसमसाता सा दिल के कहींअन्दर छिपा किधर है?

चाहने वालों की फ़ेहरिस्त हो चुकी बेहद लम्बी,क्या फिर खड़ा मेरे द़र कोई है।

मेरी खुशनव़ाजी ने द़ीवाना बना डाला सबको जरूर म़गर है।

द़िल को अपने दिलब़र का अभी भी नही पता किधर है।

मेरे शौक-ए-ख़ाना खराब में मस़नद फ़कत खाली भर है।

क्या जाने दिल कि ये है या वो है फिर कि इधर है या उधर है।

नहीं भरोसा ,ऐ दिल कि सभी ही इधर या उधर हैं।

माश़ा अल्लाह, कुछ मजे लें जिन्दगी में,दिन आवारगी के नहीं कमतर है।

चार दिन जिन्दगानी के,ऐश कर,यहाँ तलाश में कोई ना इधर है ना उधर है।

म़हबूब तेरा तू ख़ुद है,न ये है ना वो है ,सभी यहाँ बस रहब़र हैं।

ना यहाँ कोई घर है या चौबारें, बस हर सूं रक़्कासा सी झूमती नज़र है।

Written by Aruna Sharma;12.01.2021;1.56AM

PLZ,DON’T WORRY ABOUT THE MORTALITY.ENJOY EVERY MOMENTS OF YOUR LIFE🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹