थोड़ी सी श़रारत कर लूँ ग़र इज़ाजत हो…..

मुझे ,ए स़ाकी!! एक सुराही म़ैय की दे

कि म़दहोशी मे कोई श़रारत को जी चाहता है।

थोड़ी सी नाज़ुक हाथों से ही पिला दे तू

कि तुझे छूने का एक ब़हाना द़िल चाहता है।

इतनी तो आज इऩायत फ़रमाना कि

बरसों बाद फिर बहक जाने को जी चाहता है।

इक म़य का द़रिया ही बना दे मेरी ख़ातिर कि

मेरा द़रवेश सा द़िल, हर त़ाल्लुक़ात से दूर उस द़रिया में बहने को जी चाहता है।

सुन ए हसीं-ओ-सुर्ख़ी सी परी सी स़ाकी कि तेरी कुछ रंगीन लब़ो की लाली चुरा सकूँ कि ऐसा

पेंच-ओ-ख़म-ए-अद़ा दिखा,तुझे छेड़ने को जी चाहता है।

चाहे मेरी इस हिम्मत-ए-ज़िल्लत पे धक्का दे दे

और द़रिया में गिरा दे कि डूब कर बह जाने को जी चाहता है।

एहस़ान होगा तेरा मुझ पर,खफ़ा ना हो,मेरी तौब़ा,

इक बूँद बन कर द़रिया से समन्दर का सफ़र करने को जी चाहता है।

और बूँद सा बन ख़ुदा के वास्ते उस रास्ते पे चल

अपनी बूँद में सारा समन्दर-ए-खुदाई बन इस जहाँ से रिहाई चाहता है।

म़ाशाअल्लाह क्या ख़ूबसूरत सी शऱारत की तुझसे, ऐ स़ाकी!! बस एक बार

एहस़ान करने की इज़ाजत मेरा द़िल माँगता है।

तेरी इक अद़ा पे सौ ज़ान ऩिसार हैं पर मेरा द़िल बेचारा तेरी इक अद़ा से अपने म़हबूब का जहाँ-ए-ख़ुदा मांगता है।

बाकी मेरी दुआऐं तेरे साथ रहेंगी,मेरी मेहरबाँ!! मेरा दिल फ़कत इस जहाँ से ज़ुदा अपना प़ैरोक़ार अपना ख़ुदा माँगता है।

Written by Aruna Sharma.28.11.2021;11.30pm

12 thoughts on “थोड़ी सी श़रारत कर लूँ ग़र इज़ाजत हो…..

  1. I don’t know Sayari . But your Sayari ( poetry ) appears to be very romantic . Romantic to such an extent that a simple man like me would ever want to learn how to write one . A poetry of especial type . A romantic one . Even if you have to address God with Sayari , you would have to be romantic enough to do so . I don’t know enough Urdu ( a beautyful language ) but I know little Hindi & little Sanskrit . Could a Sayari of your type be written in Hindi or Sanskrit of a person having little or layman knowledge like me ? Because I know it couldn’t be written in the English in your style at all . Your style of writing Sayari is attractive and , of course , meaningful . Thanks !

    Like

  2. I don’t know Sayari . But your Sayari ( poetry ) appears to be very romantic . Romantic to such an extent that a simple man like me would ever want to learn how to write one . A poetry of especial type . A romantic one . Even if you have to address God with Sayari , you would have to be romantic enough to do so . I don’t know enough Urdu ( a beautyful language ) but I know little Hindi & little Sanskrit . Could a Sayari of your type be written in Hindi or Sanskrit of a person having little or layman knowledge like me ? Because I know it couldn’t be written in the English in your style at all . Your style of writing Sayari is attractive and , of course , meaningful . Thanks !

    Like

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s