एक गुफ़्तगू यहाँ की और वहाँ की…..



ना जाने कौन था वो,
द़ौलतमन्द,
श़ौहरतमन्द,
अक्लमन्द,
ख्व़ाहिशमन्द।।

वो जब मिला,
श़ुरू तब स़िलसिला,
था पर इक फ़ासला,
ग़ुरूर भरा ह़ौसला।।
बोला कि मेरे पास बड़ा सा म़कान है,
कई मँजिलों वाला बड़ा आलीश़ान है,
खूबस़ूरत ज़ीनों के संग बेम़िसाल प़ायदान है,
हर कमरे मे जगमगाते फ़ानूस-औ-रौश़नदान है।।

तेरे पास क्या है जो चेहरे पे ऩूर है,
दिखाता तो नहीं पर बड़ा मग़रूर है,
क्या दिल में बसा रखी कोई शै-ए-ह़ूर है,
तन्हा सा यूँ रहता है ख़ुश,कोई राज़ ज़रूर है।।

मैंने कहा -हाँ जी, मेरे पास आस़मान है,
मेरे छत का रंग नीला आलीश़ान है,
बड़े कराम़ाती रंग बदलते दिन-औ-रात के उन्वान हैं,
चाँद सितारों से सजा फ़ानूस और लोब़ान है।।

क्या तुम्हारे द़िल में कोई धड़कन है कि बेज़ान है,
मेरी ऱूह में गूँजती हरद़म आव़ाज-ए-अज़ान है,
आसम़ान को छूती द़िल की इमारत फरहान है,
इन्द्रधनुषी सा ज़ीना चढ़े तो हर सूँ इबादतों का इनाम-औ-इमान है।।

सबसे उपरी मँजिल पे रहता मेरा ख़ुदा बड़ा म़ेहरब़ान है,
जहाँ ना दँगा-फ़साद है,हर मज़हब का चेहरा समान है,
अब तुम ही बता दो कि तुम्हारे घर में कितना आराम है,
तुम ख़ुश रहो अपने मकान में,सैर को क़ूचा-औ-दालान है,
मेरे चेहरे के ऩूर का सब़ब ना पूछो जो ला-जव़ाल सा नाम है।।
  Written by Aruna Sharma.29.05.2020
11.45PM
All copy rights are reserved by Aruna Sharma.Image are taken from Google.


12 thoughts on “एक गुफ़्तगू यहाँ की और वहाँ की…..

  1. सच कहा आपने—जहाँ खुदा होगा वहा ना दँगा ना फ़साद होगा। और जहाँ दंगा-फसाद और मजहब का तकरार होगा,इंसानो में भेद और पशु,पछियों का संहार होगा वहाँ खुदा नही होगा या उसमें भी पल पल मरता खुदा ही होगा।
    क्योंकि खुदा तो सर्वत्र है और सबमें।
    उसके नाम कई जो जिस नाम से पुकारे,

    प्रेम से देखो तो पत्थर में वो मिल जाएगा,
    वृक्ष में पशु पंछी में दिख जाएगा,
    प्रेम नही तो समीप आकर चला जायेगा मगर दिख नही पायेगा।

    Liked by 2 people

  2. Hey my dear dost !! Thanks for your kind reply.,if you can send your clear photo as close up by any post because i want to make a portrait of you in unique way.it is my heartily request. you can send that when your heart allows you.please don’t take it as a burden.so much love and big hugs,Querida amiga!!💕💕💕💕💖

    Liked by 1 person

  3. Meri jaan!!!! Awww!!! I just saw this now – WordPress doesn’t show your comments on your blog to me somehow!! So I sometimes look through your latest posts to see if you wrote/ answered! Oh my you are solo sweet mere yaar! You touch my heart with your kindness 🙂 I will email you a photo this week. Thank you, thank you, thank you! Much love and big hugs querida dost!xoxoxoxo.❤️

    Liked by 1 person

  4. Yeah(haan) here WordPress does not show your all comments on my blog.all comments are in spam.why?i can not understand this miserable things on my blog.now i was reading your long post on your blog.most interesting and wonderful post.i will see all movie about which you have described. All photos of amazing city and yours are marvellous and charming forcing to delight the heart.your travel bag has all paradise things.when i was reading you then a thought in mind are raising-where is heaven?only on our earth.i will see your email and waiting for that.you are most lovely soul for me.most welcome for your enchanting email,yaar❤i am most eager for that.🤗Much love and Big hugs,my dear Gypsy soul.💕💕💕💕💝💖

    Liked by 1 person

  5. Querida amiga, thank you so much for your beautiful words and sentiments here! I am SO happy that you enjoyed the post and movie suggestions in this way 🙂 I LOVE the thought you are sharing here on “where is heaven” – only on our earth… YES jaan!!!! I feel that…heaven right in front of our eyes…the art lies in learning to truly SEE!!! Right? Like Antoine de St Exupery said in his famous book “Le petit prince”: “And now here is my secret, a very simple secret: It is only with the heart that one can see rightly; what is essential is invisible to the eye” 💖💖💖💖💖💖 Bahut bahut dhanywaad again my beautiful friend, love ya! Big hugs xoxoxo

    Liked by 1 person

  6. Bahut bahut dhanyawad for appreciation of my lines.i am waiting for your email.your Antoine’s words are most admirable for me.love ya!Big hugs,Querida amiga,xoxoxo💖💖💖💖💖💖💝

    Like

Comments are closed.