मुझे अपने ग़म उधार दे दो……..(let give me your sorrows for borrowing…..)



ऐसा नहीं कि मेरी जिन्दगी में अब कोई ग़म नहीं

कि अश़्कों से भीगी पलकें सूखी-सी कि निगाहें भी नम़ नही

It is not that My life has no touch of sorrow

My eyelashes  dried long ago but there’s still tears in the corners (of my eyes)

कयोंकि व़क्त की ठोकर ने आँसू म़य सा पीना सिखा दिया है

और हर नुक़्ता-ए-च़ी से अलग एक पके फल सा ब़ेगाना बना दिया है।

Because each stumbling step of mine has taught me to drink these tears as wine

And made me free and separated  from every worry as a ripe pear

अब तो दिल की ये हालत है कि कहे -अपने ग़म मुझे उधार लेने दे,

नहीं देखे जाते हैं अपने यार की आँखों में आँसू कि अपना समझ सब प्यार से दे दे।

Now, my heart wants to say- let take me all your woes for
For I can’t see any droplets of tears in your eyes, my friend !!think of me as yours and give your sorrows to me.

मुझे तो ग़मों की आदत सी हो गयी है एक म़हबूब की तरह,

कि हर पल दिखता है ताज़महल और भी ख़ूबसूरत चाँद में मेरे ग़ुमशुदा ख़्वाबों के म़कबरे की तरह।

I have become used to the pain like a crazy lover

I see TajMahal every time in the moon even more beautiful just like the grave of my lost dreams 

मेरे प्यारे दोस्त!!तू जहाँ भी है,आबाद और खुश रहे कि ख़ुदा से तेरी स़लामती की दुआ चाहता है दिल,

इस क़दर कि तेरी यादों कों अपने आसमान में बना के इक हसीं स़ितारा अब दिल रहता है हर शै’ से ग़ाफिल।

My dear friend!!wherever you are, Be

Prosperous and happy- this is what my heart wants,

So I  have made you a beautiful lonely star that’s shining in my sky for mine  to forget all love lorn

तुम मेरी दुआ बन के रहोगे हमेशा के लिये,

ताकि आ सको मेरी परेशाँ ऱूह की म़जार पर फ़ातिहा पढ़ने लिये

You will stay in my thoughts and soul as blessings and gratitude,

So that you can come to visit my grave to read Fatiha for soothing my lost soul.

जब मैं और तुम्हारे सारे ग़म तोहफ़ा बन सीने से लग ज़मीदोज़ हो जायेगें बड़ी मुहब़्बत के साथ ,
तब तुम आजाद हवा में साँस लेना और खुले आसमान मे परिन्दों  सा उड़ना मस्त परव़ाज के साथ।


When I would be  burried with your sorrows as  gifts from you like with love embraced me,
You would be able to live free without any worries, breathing and taking in the fresh breeze and flying in the open sky carefree.



Written by Aruna Sharma.28.05.2020
1.35AM
All copyrights are reserved by Aruna Sharma.Images are taken from Google.

Fatiha-first chapter of Sura in Quran which is read on grave to soothing the soul.
(Oblation offered to manes by Mohammedans .Like them Christians read the Prayer of Holy Bible on their relatives grave.)

6 thoughts on “मुझे अपने ग़म उधार दे दो……..(let give me your sorrows for borrowing…..)

  1. अब तो दिल की ये हालत है कि कहे -अपने ग़म मुझे उधार लेने दे,
    नहीं देखे जाते हैं अपने यार की आँखों में आँसू कि अपना समझ सब प्यार से दे दे।
    Your words are always so filled with love and purity that each time my respect increases for you. Hamesha Dil se dua nikalti hai Aapke liye

    Liked by 1 person

Comments are closed.